Thursday, December 10, 2009

rang-e-mehfil

नज़र नाज़ुक हैरान सर--आम हुई है
कब सुबह हुई और कब शाम हुई है

शमा बुझ गयी परवाने जलते ही रहे
आज मय एक तनहा जाम हुई है

उम्र भर दास्ताँ कई तहों में लिखी
दो लफ़्ज़ों में ही गुफ्तगू तमाम हुई है

चाँद टपका रात भरी आँख से सनम
लबों की ये धूप भी गुमनाम हुई है

ये मंज़र नया भी पुराना भी है
ख़ामोशी ही तूफ़ान का पैगाम हुई है

इस रंग--महफ़िल में संभलना 'मिराज'
यहाँ कोरी हया भी बदनाम हुई है

Wednesday, December 02, 2009

lamhe

guzar jate hain inhe aaj thaam lijiye

ye aus k lamhe hain, na jane dijiye

shab na ho chand na seher na aaftab

pighalti hui roshni hai, samet lijiye

naye khel dekhiye chashme badal badal

maile mausam ka hakim, kya kijiye

aankho k samandar ki lehron ki saazish

dil chahe din, chahe to raat kijiye

khwaish ki lau jo hui jati hai madham

chaand se kuch taare aaj, baant lijiye

ye khala nahi 'Mirage' mehfil-e-sukoon hai

har saans par ek naya jaam pijiye.

DIALECT. left to time, it withered, like a dead corpse hung from wall, after the sentence. no poems to defend, no stories to tell, n...