Sunday, January 18, 2009

FAANS


दर्द बस तब तक महसूस होता है,
जब तक फांस दिखती है आँख को,
और उँगलियाँ करती हैं कोशिश,
उसे निकाल फेंकने की,
एक पतली सी सुई लेकर.
जब फांस दिखती नही,
मे मान जाती हूँ,
की दर्द नही है अब.

Saturday, January 10, 2009

longing...


समय के झड़ते फूलों की
कुछ एक पंखुडी
रख ही लेनी चाहिए
संभाल के
कभी कभी बसंत
बोहत देर से आता है.

An attempt at translation,


from the falling flowers of time,
some petals shoul be kept,
as souveniers,
carefully,
at times spring,
arrives very late.

For all the time i have not been here i just want to say i missed it very much but circumstances kept me away. hope to be present.

Zindagi.

Ek panne se dusre panne k beech ka faasla ho  shyaad, Bistar ki khamosh silwaton me chupi karwatein ya fir, Darwaaze par lagi doorbell se ...